हीट स्ट्रोक से बचाव के लिए पशुओं को चारा व दाना सुबह जल्दी एवं देर शाम को दे - उपसंचालक पशुपालन


मंदसौर - उपसंचालक पशुपालन श्री इंगोले द्वारा बताया कि ग्रीष्म ऋतु में पशुओं का हीट स्ट्रोक से बचाव ग्रीष्म ऋतु में माह मई व जुन में अत्यधिक तापमान होने से पशुओं पर इसका सीधा असर होता हैं। हीट स्ट्रोक होने पर पशु सुस्त हो जाते हैए पशु सिर नीचे रखते हुये मुह खोल कर सास लेते है। पशु के शरीर का तापमान बढ जाता है। पशु के मुह से लार गिरती है। शवांस गति बढ़ जाती है एवं नाक व नथुने सुख जाते है। पशु का दुग्ध उत्पादन अचानक कम हो जाता हीट स्ट्रोक से बचाव हेतु पशुओं को चारा दाना सुबह जल्दी एवं देर शाम को दे। क्योंकि इनके पाचन से शरीर में उष्मा पैदा होती हैं। दिन में पशुओं को हरा चारा देवे। इससे आवश्यक खनिज तत्व एवं पानी की पूर्ति होगी। पशुओं को स्वच्छ ठंड़ा जल दिन में चार से पाच बार पिलाये। पशुओं को रखने का स्थान साफ एवं खुला हवादार होना चाहिये। पशुशाला में टाट बोरिया आदि भिगोकर लगा सकते है। पशुशाला में पंखे एवं पानी के फव्वारे भी उपयोग कर सकते हैं। पशुओं को सुबह शाम ठंडे पानी से नहलाये।


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं