हीट स्ट्रोक से बचाव के लिए पशुओं को चारा व दाना सुबह जल्दी एवं देर शाम को दे - उपसंचालक पशुपालन


मंदसौर - उपसंचालक पशुपालन श्री इंगोले द्वारा बताया कि ग्रीष्म ऋतु में पशुओं का हीट स्ट्रोक से बचाव ग्रीष्म ऋतु में माह मई व जुन में अत्यधिक तापमान होने से पशुओं पर इसका सीधा असर होता हैं। हीट स्ट्रोक होने पर पशु सुस्त हो जाते हैए पशु सिर नीचे रखते हुये मुह खोल कर सास लेते है। पशु के शरीर का तापमान बढ जाता है। पशु के मुह से लार गिरती है। शवांस गति बढ़ जाती है एवं नाक व नथुने सुख जाते है। पशु का दुग्ध उत्पादन अचानक कम हो जाता हीट स्ट्रोक से बचाव हेतु पशुओं को चारा दाना सुबह जल्दी एवं देर शाम को दे। क्योंकि इनके पाचन से शरीर में उष्मा पैदा होती हैं। दिन में पशुओं को हरा चारा देवे। इससे आवश्यक खनिज तत्व एवं पानी की पूर्ति होगी। पशुओं को स्वच्छ ठंड़ा जल दिन में चार से पाच बार पिलाये। पशुओं को रखने का स्थान साफ एवं खुला हवादार होना चाहिये। पशुशाला में टाट बोरिया आदि भिगोकर लगा सकते है। पशुशाला में पंखे एवं पानी के फव्वारे भी उपयोग कर सकते हैं। पशुओं को सुबह शाम ठंडे पानी से नहलाये।


Popular posts
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
अपने अस्तित्व व हक के लिए जरूर लड़े भले ही आप कितने भी कमजोर क्यो ना हो ( श्रीमती मोनिका उपाध्याय
Image
छिंदवाड़ा जिले के कोरोना वायरस जैसी गंभीर बीमारी से निपटने के लिए अभी तक़ निम्न शिक्षकों ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में एक दिन का वेतन देने की घोषणा की है - ठाकुर राजा सिंह राजपूत
धार पुलिस कप्तान एक्शन मोड पर....* *सुबह-सुबह जामदा भूतिया में पुलिस ने दी दबिश..* *बदमाशों और पुलिस में आमने-सामने चली गोलियां.....*
तुम भी अपना ख्याल रखना, मैं भी मुस्कुराऊंगी। इस बार जून के महीने में मां, मैं मायके नहीं आ पाऊंगी ( श्रीमती कामिनी परिहार - धार / मध्यप्रदेश)
Image