इतिहास का एक पृष्ठ सन 2014 से पहले तक इतिहास का वो दौर था जब 'हम भारत के लोग' बहुत दुखी थे।- दिनेश साहू प्रधान संपादक दैनिक रोजगार के पल

इतिहास का एक पृष्ठ


सन 2014 से पहले तक इतिहास का वो दौर था


जब 'हम भारत के लोग' बहुत दुखी थे।


एक तरफ तो फैक्ट्रियों मे काम चल रहा था


और कामगार काम से दुखी थे अपनी मिलने वाली पगार से दुखी थे।


सरकारी बाबू की तन्ख्वाह समय समय पर आने वाले वेतन आयोगों से बढ रही थी , हर छ महीने साल भर मे 10% तक के मंहगाई भत्ते मिल रहे थे नौकरियां खुली हुईं थीं


अमीर गरीब सवर्ण दलित सबके लिये यूपीएससी था


एस एस सी था


रेलवे थी


बैंक की नौकरियां थीं।


प्राईवेट सेक्टर उफान पर था ।


मल्टी नेशनल कम्पनियां आ रहीं थी जाब दे रहीं थीं।


हर छोटे बडे शहर मे ऑडी और जगुआर जैसी कारों के शो रूम खुल रहे थे ।


हर घर मे एक से लेकर तीन चार तक अलग अलग माडलो की कारें हो रही थीं।


प्रॉपर्टी मे बूम था ।नोयडा से लेकर पुणे बंगलौर तक, कलकत्ता से बम्बई तक फ्लैटों की मारा-मारी मची हुई थी।


मतलब हर तरफ हर जगह अथाह दुख ही दुख पसरा हुआ था।


लोग नौकरी मिलने से, तन्ख्वाह पेन्शन और मंहगाई भत्ता मिलने से दुखी थे।


प्राईवेट सेक्टर आई टी सेक्टर मे मिलने वाले लाखो के पैकेज से लोग दुखी थे।


कारों से ,प्रॉपर्टी से लोग दुखी थे।


*फिर क्या था* 


प्रभु से भारत की जनता का यह दुख देखा न गया।


तब उन्होंने ' अच्छे दिन' का एक वेदमंत्र लेकर भारत की पवित्र भूमि पर अवतार लिया।


भये प्रकट कृपाला दीन दयाला ।


जनता ने कहा - कीजे प्रभु लीला अति प्रियशीला।


प्रभु ने चमत्कार दिखाने आरम्भ किये।


जनता चमत्कृत हो कर देखती रही।


तमाम संवैधानिक संस्थायें रेलवे, एअरपोर्ट,


दूरसंचार, बैंक , AIIMS, IIT, ISRO, CBI, RAW , BSNL, MTNL, NTPC, POWER GRID , ONGC, आदि जो नेहरू और इंदिरा नाम के क्रूर शासकों ने बनायीं थीं


उनको ध्वंस किया और उन्हें संविधान, कानून और नैतिकता के पंजे से मुक्त किया।


रिजर्व बैंक नाम की एक ऐसी ही संस्था थी जो पैसों पर किसी नाग की भाँति कुन्डली मार कर बैठी रहती थी ।


प्रभु ने उसका तमाम पैसा, जिसे जनता अपना समझने की भूल करती थी, तमाम प्रयासों से बाहर निकाल कर उस रिजर्व बैंक को पैसों के भार से मुक्त किया।। प्रजा को इन सब कार्यवाहियों से बड़ा आनन्द मिला और करतल ध्वनि से जनता ने आभार व्यक्त किया,


और प्रभु के गुणगान में लग गयी।


प्रभु ने ऐसे अनेक लोकोपकारी काम किये, जैसे सरकारी नौकरियां खत्म करने का पूर्ण प्रयास, बिना यूपीएससी सीधा उप सचिव, संयुक्त सचिव नियुक्त करना, मंहगाई भत्ता रोकना, आदि ।


पहले सरकारी कर्मचारी वेतन आयोगों मे 30 से 40% तक की वृद्धि से दुखी रहते थे। फिर सातवें वेतन आयोग में जब मात्र 13% की वृद्धि ही मिली तब जा के कहीं सरकारी कर्मचारियों को संतुष्टि मिली


वरना मनमोहन सिंह नामक क्रूर शासक ने तो कर्मचारियों को तनख्वाह में बढोतरी और मंहगाई भत्ता की मद मे पैसे दे-देकर बिगाड़ रहा था।


प्रभु जब अपनी लीला मे व्यस्त थे तभी कोरोना नामक एक देवी चीन से प्रभु की मदद को आ गयीं। अब सारे शहर गाँव गली कूचे मे ताला लगा दिया गया।लोगों को तालों मे बंद करके आराम करने का आदेश हो गया।अब सर्वत्र शान्ति थी।लोग घरों मे बंद होकर चाट पकौड़ी, जलेबी , मिठाई का आनंद उठाने लगे।


। रेलगाड़ी और हवाई जहाज जैसी विदेशी म्लेच्छो के सा


धन छोड़कर लोग पैदल ही सैकड़ों हजारो मील की यात्रा पर निकल पड़े।


फैक्ट्रियां , दुकानें सब बंद कर दी गयी ।कामगारों को नौकरियों से निजात दे दी गयी


सबको गुलामों और घोड़ों की तरह मुँह पर पट्टा बाधना अनिवार्य किया गया , जो लोग 2014 के पहले के तमाम लौकिक सुखों से दुखी थे उनमें प्रसन्नता का सागर हिलोरे मारने लगा।


सर्वत्र नमोराज छा गया


यदि प्रभु के सारे कृत्य वर्णन किये जाये तो सारे भारत की भूमि और सारी नदियों का जल भी लिखने के लिये कम पड़ जाये।थोड़ा लिखना बहुत समझना आप तो खुद समझदार हैं । आगे की लीला के लिए प्रभु के दूरदर्शन पर प्रकट होने की प्रतीक्षा करें उसके बाद करतल ध्वनि से स्वागत करते रहिये।


Popular posts
प्रमुख सचिव जी आपको किसानों के गेहूं |चना खरीदारी पर गहरी नाराजगी हो गई आपने किसानों की समस्याओं को समझने की कोशिश नहीं की - रमेश गायकवाड़ - जिला अध्यक्ष बैतूल किसान कांग्रेस
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
मध्यप्रदेश अनुसूचित जनजाती आयोग के अध्यक्ष श्री गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी का डही में ब्लाक कोंग्रेस कमेटी , सेवादल एवं युथ कोंग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा स्वागत किया गया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image