कोरोना ने 25 वे वर्षो के साई भंडारे को रोका कोरोना को हाराने साई भक्तों ने दी आहुति कोरोना वारियर्स का किया सम्मान

 सुनील जोशी जोबट ।


नगर में 30 मई शनिवार को साई बाबा के मंदिर का 25वा स्थापना दिवस मनाया गया जिसमें चुनिंदा भक्तों ने साई बाबा की आरती कर 56 भोग लगाया गया ।वही एक दिन पहले गायत्री हवन कर कोरोना को हारने ओर देश को जीतने के लिए यज्ञ में आहुति दी गई वही अगले दिन साई बाबा का 11लीटर दूध से पंडित भवानी शंकर शर्मा द्वारा अभिषेक करवाया गया ।वही आज 30 मई को भक्तों ने बाबा का पूजन अर्चन कर बाबा के वचन जैसा कि साई कहते थे कि गरीबो ,असहय ओर अपंगों को भोजन करना मतलब मुझे भोजन करना है जैसे वचनों को मानते हुए साई सेवा समिति द्वारा देश में फैली नोबेल कोरोना वायरस के चलते देश में पिछले 60 दिनों से लॉक डाउन की स्थिति को देखते हुए जरूरत मन गरीब असहाय व दिहाड़ी मजदूरो खाद्य सामग्री के किट जिसमें आटा दाल मसाले आदि शामिल है ऐसे जरूरतमंद लोगों को किट वितरित किए गए। 30 मई दोपहर 12 बजे आरती के दौरान जोबट एसडीएम किरण आंजना ,तहसीलदार वंदना किराड़े व टीआई कैलाश चौहान ,नगर पंचायत सीएमओ बीएस टांक मौजूद रहे । इस दौरान भक्त द्वारा सोशल डिस्टन्स का पालन करते हुए कोरोना वारियर्स डॉक्टर ,पुलिस ,सफाई कर्मचारियों का सम्मान भी किया गया । आपको बता दे कि देश मे फैली वैश्विक महामारी के चलते साई समिति द्वारा भजन संध्या व भंडारे का आयोजन स्थगित कर 251 जरूरत मंद लोगो को उनके घर जाकर खाद्य साम्रगी के किट वितरित किये गए ।वही लोक डाउन का पालन करते हुए चुनिंदा भक्तों ने दोपहर 12 बजे साईबाबा की आरती की गई जिसका स्थानीय केबल पर प्रसारण किया गया जिसके बाद साई भक्तों द्वारा नगर के प्रत्येक घरो तक साई बाबा की प्रसादी भिजवाई गई ।


Popular posts
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image