सरकार बताये उसकी बसें कहां दौड़ रहीं हैं? मजदूरों की मौत के लिये कौन जिम्मेवार है? : भूपेन्द्र गुप्ता

 


सरकार बताये उसकी बसें कहां दौड़ रहीं हैं?
मजदूरों की मौत के लिये कौन जिम्मेवार है? : भूपेन्द्र गुप्ता
भोपाल, 


कांग्रेस के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने सागर और छतरपुर के बीच में हुए प्रवासी मजदूरों के एक्सीडेंट को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहां है कि सरकार को यह बताना चाहिए कि उसके द्वारा चलाई गई बसें कहां है ?उसके द्वारा दिया जा रहा भोजन कहां है ? क्यों बेतहाशा मजदूर भागते ही चले जा रहे हैं ?क्यों सरकार पर उन्हें भरोसा नहीं है? गुप्ता ने गुना और.नरसिंहपुर के बाद हुई इस दुर्घटना को  प्रशासन की बड़ी चूक बताया है। उन्होंने कहा कि सरकार के दावे खोखले.हैं ।खाली सड़कों पर जब  दुर्घटनाओं को नहीं रोक पा रहे हैं तब जब सड़कें फिर से भरी होगी तब क्या होगा ? गुप्ता ने कहा कल ही मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने यह जानकारी दी थी कि तीन लाख से ज्यादा मजदूरों को सरकार घर तक पहुंचा चुकी है और एक भी मजदूर को पैदल नहीं जाने दिया जाएगा। तब ट्रक में और अन्य साधनों में अपने पैसे से जाने पर मजदूर मजबूर क्यों हैं ? प्रधानमंत्री जी ने भी प्रवासी मजदूरों के परिवहन के लिये 1000 करोड़ की घोषणा की है,उसका क्या हुआ ?क्या उस फंड उपयोग तब शुरू होगा जब मजदूर खुद अपने पैसे से घर पहुंच जाएंगे । गुप्ता ने मांग की कि सरकार कितनी बसों को किन-किन रोड पर और और किन-किन पॉइंट से चला रही है इसका खुलासा करे।
गुप्ता ने कहा कि जो कांग्रेस कार्यकर्ता मजदूरों के भोजन व्यवस्था मे कार्य कर रहे हैं सरकार उन पर झूठे मुकदमे बना रही है और दया करूणा के भगवान के काम में अड़ंगे लगा रही है।उन्होंने कहा कि यह आऊटसोर्स सरकार गरीब से नफरत न  करे,जो उनकी मदद कर रहे हैं उन्हें हताश न करे।


र्थग्रेेेेे


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं