चीनी सामान तोड़ना , चीनी सामान न ख़रीदना बेवक़ूफ़ी से ज़्यादा कुछ नहीं है । जो सामान मै ख़रीद चुका हूँ , उसको तोड़कर में चीन का नुक़सान करूँगा या अपना ?? जो सामान चीन से आयात होकर भारत आ चुका है , उसका बहिष्कार करके आप चीन का नुक़सान करेंगे या उन छोटे दुकानदारो का जो अपनी रोज़ी रोटी कमा रहे हैं - हेमंत पगारिया/ प्रवक्ता कांग्रेस कमेटी बैतुल

चीनी सामान तोड़ना , चीनी सामान न ख़रीदना बेवक़ूफ़ी से ज़्यादा कुछ नहीं है । जो सामान मै ख़रीद चुका हूँ , उसको तोड़कर में चीन का नुक़सान करूँगा या अपना ?? जो सामान चीन से आयात होकर भारत आ चुका है , उसका बहिष्कार करके आप चीन का नुक़सान करेंगे या उन छोटे दुकानदारो का जो अपनी रोज़ी रोटी कमा रहे हैं। अगर चीन के सामान का बहिष्कार करना है तो *प्रधानमंत्री जी TV पर आकर एलान करें कि आज रात 12 बजे के बाद से चीन से व्यापारिक रिश्ते भारत ख़त्म कर रहा है । चीन से कोई सामान आज के बाद आयात नहीं होगा । चीन की जितनी भी कम्पनी भारत में काम कर रही हैं , उनका लाइसेंस कैन्सल कर दिया गया है ।* चीन का सामान आयात नहीं होगा तो भारत *आत्मनिर्भर* भी बन जाएगा और चीन को सबक़ भी मिल जाएगा ।