कंटेनमेंट क्षेत्र में आवाजाही को सख्ती के साथ पूर्णतः प्रतिबंधित करें - कलेक्टर पिथोड़े

भोपाल ।


भोपाल के सभी कंटेनमेंट और अतिसंवेदनशील क्षेत्रों में व्यवस्थाएं दुरुस्त कर कंटेनमेंट क्षेत्र में नियमों का कड़ाई से पालन करायें। कंटेनमेंट जोन से किसी व्यक्ति को अन्य स्थान पर ना जाने दे। इन क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग हेल्थ सर्वे, टेस्टिंग और सैंपलिंग का दायरा बढ़ाये। स्वास्थ्य गतिविधियां व्यापक स्तर पर संचालित करें। आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक दवाइयों, काढा का वितरण सुनिश्चित करें। यह निर्देश आज कलेक्ट्रेट कार्यालय सभाकक्ष में कलेक्टर श्री तरुण कुमार पिथोड़े ने स्वास्थ्य विभाग के सभी चिकित्सकों, विशेषज्ञों और अनुविभागीय अधिकारियों को दिये। बैठक में आयुक्त नगर निगम श्री वी एस कोलसानी, जिला पंचायत सीईओ श्री विकास मिश्रा, अपर कलेक्टर श्री सतीश कुमार एस, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी श्री प्रभाकर तिवारी, गांधी मेडिकल कॉलेज, हमीदिया, जय प्रकाश चिकित्सालय, गैस राहत चिकित्सालय के विषय विशेषज्ञ चिकित्सक उपस्थित थे। कलेक्टर ने बैठक में कहा कि सभी चिकित्सक, अनुविभागीय अधिकारी और कार्यरत स्टाफ कंटेनमेंट क्षेत्रों में 3 शिफ्ट में ड्यूटी करें। माइक्रो प्लानिंग व्यवस्थाएँ जमीनी स्तर पर तैयार करें। कोरोना संक्रमित लक्षण वाले व्यक्तियों को क्वॉरेंटाइन सेंटरों पर आइसोलेट किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कराया जाना सुनिश्चित करें। स्लम एरिया में सर्वे और स्क्रीनिंग का स्तर बढ़ायें। विदेशों और अन्य प्रदेशों से आने वाले व्यक्तियों की भी सघन जाँच करें कलेक्टर ने कहा कि कोविड केयर सेंटरों पर आवश्यक सेवाओं का विस्तार किया जाये। भर्ती मरीजो की देख-रेख और उपचार निरंतर क्रियाशील रहें। अस्पतालों में अपने ईलाज के लिए पहुंच रहे लोगों की हिस्ट्री एवं जानकारी प्रतिदिन इन कंटेंटमेंट क्षेत्रों से लें।


कंटेनमेंट क्षेत्रों में दैनिक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए सुविधाएं बढ़ाई जाएं तथा स्लम एरिया राहल नगर, जय भीम नगर, प्रियदर्शनी नगर और बाणगंगा एरिया में अधिकारियों को विशेष नज़र बनाये रखने के निर्देश भी दिये हैं। बैठक में कलेक्टर ने कंटेनमेंट क्षेत्रों में स्वास्थ्य विभाग को सेम्पलिंग और जाँच का दायरा बढ़ाये जाने के निर्देश दिए। कोरोना संक्रमण रोकने के लिये व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि शहर में संक्रमण को रोकने के लिए चिकित्सक और मेडिकल स्टाफ कंटेनमेंट क्षेत्रों में स्क्रीनिंग और जांच का दायरा बढ़ाएं। होम आइसोलेशन और फर्स्ट कांटेक्ट हिस्ट्री को और अधिक सक्रिय करें जिससे संक्रमित व्यक्ति को शीघ पहचाना जा सके। उन्होंने शहर में स्लम एरिया और बस्तियों में विशेष ध्यान दिये जाने के निर्देश दिये। साथ ही कंटेनमेंट क्षेत्र में बैरिकेडिंग कर आवाजाही को सख्ती के साथ पूर्णतः प्रतिबंधित करें। सभी अनुविभागीय अधिकारी अपने क्षेत्रों में बनाये गए कंटेनमेंट और अति संवेदनशील क्षेत्रों में प्रवेश और निर्गम द्वार पर मेडिकल टीमों के साथ साथ प्रशासनिक व्यक्ति को भी तैनात करें। जिससे आवागमन को प्रतिबंधित किया जा सके और व्यक्तियो को इन जोन से बाहर जाने से रोका जा सके।


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
माता शबरी का चरित्र अनुकरणीय- मंत्री श्री जयवर्धन सिंह गौरव की बात - मंत्री श्री मरकाम, ब्यावरा में माता शबरी जन्म उत्सव में सम्मिलित हुए मंत्री द्वय