ओलंपियन तीरंदाज़ दीपिका के पापा मीडिया से ख़फ़ा हैं

"


हम कहां करेंगे शादी, कैसे बुलाएंगे मेहमानों को. यह सवाल मुझसे पूछने की जगह उस पेपर (मीडिया) वाले से पूछिए, जहां न्यूज़ छपा है. अब आम लोग ही न बताइएगा कि हम कहां पर अपने मेहमानों को बुलाएं. कहां आएगी मेरी बेटी की बारात. पेपर के लोगों ने बदमाशी की है. अभी हम इससे ज्यादा कुछ नहीं कह सकते. आप घुमा-फिराकर सवाल मत पूछिए. हमको नहीं पता कि क्या होगा. आप लोग ही समाधान निकालिए." उन्होंने इससे पहले मीडिया से कहा था कि उनकी बेटी की बारात में कोलकाता से सिर्फ 10 लोग आएंगे. इसमें लॉकडाउन के नियमों का ख्याल रखा जाएगा. इस वजह से सिर्फ 50 कार्ड ही बांटे जा रहे हैं.


30 जून को है दीपिका की शादी ओलंपियन तीरंदाज़ दीपिका कुमारी और अतनु दास की शादी 30 जून को होनी है. इसके लिए छपे शादी के कार्ड पर विवाह स्थल की जगह खुखरी गेस्ट हाउस लिखी है. झारखंड पुलिस के प्रवक्ता और अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) मुरारी लाल मीणा ने कहा कि यह विवाद का विषय नहीं है. दीपिका नामी खिलाड़ी हैं. उनकी शादी के लिए हमारी शुभकामनाएं हैं.


क्यों रद्द हुआ आवंटन एडीजी मुरारी लाल मीणा ने बीबीसी से कहा, "दीपिका के परिवार वालों की तरफ़ से हमें 9 जून की शाम एक आवेदन मिला था. इसमें उनके ओलंपियन तीरंदाज़ होने का जिक्र करते हए उनकी प्रस्तावित शादी के लिए झारखंड पुलिस के खुखरी गेस्ट हाउस के आवंटन का अनुरोध था. वे बड़ी तीरंदाज़ हैं, देश के लिए खेलती हैं. लिहाज़ा, हमने उसी वक़्त गेस्ट हाउस का आवंटन कर दिया, लेकिन इसके लिए कोई एडवांस पैसे नहीं लिए थे."


साल 2018 में हुई थी सगाई दीपिका और अतनु दास दोनों ओलंपियन तीरंदाज़ हैं. दोनों ने भारत के लिए कई मेडल जीते हैं. दोनों रियो ओलंपिक में भारतीय दल का हिस्सा रहे थे. शुरुआती दोस्ती के बाद 10 दिसंबर 2018 को इनकी सगाई दीपिका के रातू चट्टी (रांची) स्थित पैतृक घर पर हुई थी. इसमें पूर्व मुख्यमंत्री और अभी की सरकार में केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा और उनकी पत्नी मीरा मुंडा भी शामिल हुए थे.  इस बारे में अतनु दास से बातचीत की. उन्होंने कहा कि फ़िलहाल इसपर कोई कमेंट करना उचित नहीं है, फिर भी अचानक से अगर कोई आवंटन कैंसिल हो, तो आप इस कारण होने वाली मुश्किलों का अंदाज़ा लगा सकते हैं.


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
अग्रवाल समाज की भामाशाही परंपरा
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
नगर पालिका परिषद पचमढ़ी के कांग्रेस के सभी पार्षदों के मांग पर कैंट बोर्ड जरूरतमंद परिवार को वितरित करेगा किराना सामान
Image