श्री गणेशाय नमः आज का नाम है (मुनि मानस हंसिका)

साईं नमः श्री गणेशाय नमः आज का नाम है (मुनि मानस हंसिका) जो ऋषि मुनि माई की भक्ति में डूबे रहते हैं जो उनके बारे में अधिक से अधिक ज्ञान अर्जन में निरंतर ही विचार रत रहते हैं जिनकी मन बुद्धि और हृदय में और कुछ भी नहीं रहता ऐसे महात्माओं के मानस में वह हंसिका या हंस के रूप में सदैव ही समान पलावन करती रहती हैं स्वामी जी तो कभी-कभी अन्य किसी भी विषय पर चर्चा या पुस्तक की चर्चा पसंद ही नहीं करते थे मूलता दतिया में उनके समय उनके सानिध्य में सदैव ही ईश्वर गुण माई नाम ,माई की पुस्तकें, किस ने क्या लिखा है, इत्यादि यही चलता रहता था माई का इतना विस्तारित रूप है कि जीवन पर्यंत चर्चा समाप्त ही नहीं हो सकती है यदि आप उनके विषय में सोचते रहें तो वह भी उनकी कृपा से ही संभव है श्री स्वामी जी के शब्दों में जो लेख संग्रह में लिखा है (श्री भगवती के चरित्र नाम लीला * आदि के श्रवण कीर्तन में सतत संलग्न रहने से परा भक्ति का उदय होता है) यह श्री भगवती गीता नामक लेख में स्वामी जी ने अंकित किया है जय माई की


Popular posts
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image