सिंधिया-अनीता जैन के मध्य 50 लाख रूपये से संबंधित वायरल आडियो को लेकर कांग्रेस कोर्ट जाएगी - केके मिश्रा

वायरल आडियो को लेकर कांग्रेस कोर्ट जाएगी आईजी ग्वालियर को लिखे पत्र में कांगेस ने पूछार एसआईटी गठन का क्या हुआ



ग्वालियर/भोपाल प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी (ग्वालियर-चंबल संभाग) के. के. मिश्रा ने ग्वालियर संभाग के आईजी श्री राजाबाबूसिंह को लिखे एक पत्र में आग्रह कर जानना चाहा है कि कांग्रेस पार्टी द्वारा उन्हें विगत 11 जून 2020 को दिये गये ज्ञापन और उसमें संलग्न सीडीए जिसमें कथित तौर पर भाजपा नेता श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं अशोक नगर निवासी श्रीमती अनीता जैन के मध्य विधानसभा चुनाव 2018 के दौरान विधानसभा टिकिट को लेकर 50 लाख रू. के लेनदेन से संबंधित आडियो वायरल को लेकर एसआईटी के गठन और उसकी निष्पक्ष जांच को लेकर क्या कार्यवाही की गईट मिश्रा ने पत्र में आईजी से आग्रह किया कि इस कथित आडियो में श्री सिंधिया और श्रीमती जैन के मध्य हुई वार्तालाप के दौरान श्री सिंधिया से अशोकनगर से टिकट के अग्रवाल के घर 50 लाख रूपये रखे जाने की बात सामने आयी है। यह मामला सार्वजनिक जीवन की शुद्धता और राजनैतिक शुचिता से जुड़ा एक गंभीर मामला हैलिहाजाए कांग्रेस पार्टी ने इस मामले को लेकर एसआईटी का गठन कर जांच कराने और जांच सही पाये जाने पर कदाचार के कथित आरोपितों के खिलाफ एफआईआर करने का अनुरोध किया था। यदि एसआईटी का गठन हो चुका हो तो कांग्रेस पार्टी को कृपाकर सूचित किया जाए। किंतु पार्टी को आशंका है कि मामला प्रभावी राजनेताओं से जुड़े होने के कारण राजनैतिक दबाववश 10 दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक कोई दिखायी देने वाली कार्यवाही नहीं हुई है! यदि ऐसा है तो कांग्रेस पार्टी दंड प्रक्रिया संहिता की धारा-200 के तहत न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत करेगी


Popular posts
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
पाढर अस्पताल में अब होगा आयुष्मान मरीजों का उपचार, पाढ़र अस्पताल का हुआ अनुबंध :- आशीष पेंढारकर 
Image
लेखन सामग्री क्रय करने हेतु पंजीकृत सप्लायर्स से निविदाएं आमंत्रित
पाकिस्तानी पायलटों को अचानक बैन करने लगे कई देश
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*