तीन बच्चों के डूबने की सूचना प्रभारी मंत्री ने दुखद बताया मृतक के परिजनों को चार -चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की

उमरिया -


शहडोल तथा बृजेंद्र सिंह पिता छोटेलाल सिंह उम्र 6 वर्ष निवासी भमरहा जिला शहडोल शामिल हैं बृजंद्र और नरंद्र के शव रेस्क्यू अभियान के माध्यम से खोज लिए गये है। बृजेश सिंह की तलाश एसडीआरएफ जबलपुर से आये दल द्वारा की जा रही - जिले के मानपुर तहसील में सोन नदी के भमरहा घाट में तीन बच्चों के डूबने की सूचना मिलते ही प्रदेश शासन की आदिम जाति कल्याण मंत्री तथा जिला प्रभारी मंत्री सुश्री मीना सिंह ने घटना स्थल पहुंचकर वहां चलाये जा रहे राहत अभियान की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि यह अत्यंत ह्दय विदारक घटना है। घटना से गहरा आघात पहुंचा है। आपने परिवार जनों से मिलकर पीडित परिवारों को चार चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। साथ ही रेस्क्यू अभियान की जानकारी प्राप्त कर नदी में डूबे बच्चों की तलाश जारी रखने के निर्देश दिए। 8 जून की शाम तक नदी में डूबे तीन बच्चों में से दो की तलाश कर ली गई थी ।


रात होने के कारण रेस्क्यू अभियान रोक दिया गया था 9 जून को एसडीआरएफ जबलपुर के गोताखोरों द्वारा उन्हें नदी में डूबे तीसरे बच्चे की तलाश की जा रही है  सोन नदी में तीन बच्चां के डूबने की सूचना मिलते ही कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ए पुलिस अधीक्षक न शर्मा घटना स्थल में पहुंचकर नदी में डूबे हुए बच्चों के तलाशी अभियान की मानीटरिंग करते रहे। मौके पर एसडीआरएफ जबलपुर की टीम बच्चों की तलाशने के काम में जुटी हुई है। उल्लेखनीय है कि रविवार को मानपुर तहसील के सेहरा गांव से आधा दर्जन लोग भमरहा जा रहे थेसोन नदी पार करते समय युवकों का पैर गढ्ढे मे पडने से पानी मे बह गये। बहने वाले बच्चों में बृजेश सिंह पिता इंद्रजीत सिंह उम्र 16 वर्ष निवासी ग्राम सेहरा जिला उमरियाए नरेंद्र सिंह पिता अभयराज सिंह उम्र 7 वर्ष निवासी भमरहा जिला


Popular posts
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
शत्रु ये अदृश्य है विनाश इसका लक्ष्य है - शरद गुप्ता /इंस्पेक्टर मुम्बई पुलिस
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
बेवजह घर से निकलने की,  ज़रूरत क्या है | मौत से आंख मिलाने  की,  ज़रूरत क्या है || भगवान जावरे