तुझे क्या कहूं* *बीमारी कहूं कि बहार कहूं* - श्रीमती मोनिका उपाध्याय ( सह सम्पादक)


 *तुझे क्या कहूं*


*बीमारी कहूं कि बहार कहूं*


*पीड़ा कहूं कि त्यौहार कहूं*


*संतुलन कहूं कि संहार कहूं*


*कहो तुझे क्या कहूं* .


*मानव जो उदंड था*


*पाप का प्रचंड था*


*सामर्थ्य का घमंड था*


*मानवता खंड-खंड था*


. *नदियां सारी त्रस्त थी*


*सड़के सारी व्यस्त थी*


*जंगलों में आग थी*


*हवाओं में राख थी*


*कोलाहल का स्वर था*


*खतरे में जीवो का घर था*


*चांद पर पहले थे*


*वसुधा के दर्द बड़े गहरे थे*


*फिर अचानक तू आई*


*मृत्यु का खौफ लाई*


*मानवों को डराई*


*विज्ञान भी घबराई* .


*लोग यूं मरने लगे*


*खुद को घरों में भरने लगे*


*इच्छाओं को सीमित करने लगे*


*प्रकृति से डरने लगे* .


*अब लोग सारे बंद है*


*नदिया स्वच्छंद है*


*हवाओं में सुगंध है*


*वनों में आनंद है* .


*जीव सारे मस्त हैं*


*वातावरण भी स्वस्थ है*


*पक्षी स्वरों में गा रहे*


*तितलियां इतरा रही* .


*अब तुम ही कहो तुझे क्या कहूं*


*बीमारी कहूं कि बहार कहूं* .


*पीड़ा कहूं कि त्यौहार कहूं*


*संतुलन कहूं कि संहार कहूं*


*कहो तुझे क्या कहूं* *


Popular posts
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
अपने अस्तित्व व हक के लिए जरूर लड़े भले ही आप कितने भी कमजोर क्यो ना हो ( श्रीमती मोनिका उपाध्याय
Image
छिंदवाड़ा जिले के कोरोना वायरस जैसी गंभीर बीमारी से निपटने के लिए अभी तक़ निम्न शिक्षकों ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में एक दिन का वेतन देने की घोषणा की है - ठाकुर राजा सिंह राजपूत
तुम भी अपना ख्याल रखना, मैं भी मुस्कुराऊंगी। इस बार जून के महीने में मां, मैं मायके नहीं आ पाऊंगी ( श्रीमती कामिनी परिहार - धार / मध्यप्रदेश)
Image
कोरोना वायरस : भारत में "जून-जुलाई में अपने चरम पर होगा कोरोना- डॉ. रणदीप गुलेरिया."
Image