उज्जैन: गुलजार हुए बाजार* उज्जैन -: कोरोना से बचाव के नियमों का पालन कर घरों से निकले लोग -: *आशीष पेंढारकर *

 * उज्जैन- दो माह से अधिक समय बीत गया कोरोना से बचने के लिये घरों में रहते हुए…कब बाजार खुलेंगे, कब सामान लेने घरों से बाहर निकल पाएंगे…शहर का नजारा कैसा होगा…क्या क्या मिलेगा और क्या प्रतिबंधित रहेगा इस प्रकार के तमाम प्रश्न शहरवासियों के मन में घूम रहे थे जिन पर सुबह विराम लग गया। लॉकडाउन के पहले जिस प्रकार शहर दौड़ता था लगभग उसी तरह 1 जून की सुबह होते ही दौडऩे लगा। मंडी से लेकर बाजार तक फलों की बिक्री हो रही थी। 9 बजे बाद प्रमुख बाजारों की दुकानें खुलने लगीं। घरों में लोग अपने दो पहिया, चार पहिया वाहन पर कपड़ा मारकर साफ करने लगे। हालांकि कुछ लोगों के वाहनों की हवा निकल चुकी थी तो कुछ लोगों के वाहन में पेट्रोल नहीं था। बाजार खुलने की खबर दो दिन पहले ही मिल चुकी थी, वाहन दुरूस्त कराए और निकल पड़े जरूरी सामान खरीदने बाजारों में। घर के लोगों ने हिदायत भी दी कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। मास्क लगा लो, हाथ सेनेटाइज भी करते रहना। किसी को छूना मत। दूरी बनाये रखना। मुंह से मास्क मत हटाना। घर की हिदायत सुनकर लोग अपनी सुरक्षा पर ध्यान देते हुए बाजार में आये। इधर व्यापारी भी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये सचेत थे। किसी ने दुकान के ओटले पर रस्सी बांध ली तो किसी ने स्टूल और टेबल रख दिये। दुकान तो खुली लेकिन व्यापारी द्वारा सोशल डिस्टेसिंग के नियम को सर्वोपरि माना। एक कर्मचारी दुकान के बाहर सामान की लिस्ट ले रहा था तो दूसरा सामान तौल रहा था। दुकान के बाहर खड़े लोग भी हाथों में ग्लब्ज, मुंह पर मास्कर पहने एक दूसरे से दूरी बनाकर खड़े थे। कुल मिलाकर लंबे समय बाद बाजार खुले और ग्राहकों से गुलजार भी हो गये जिसका लंबे समय से लोगों को इंतजार था। शहरवासियों ने भगवान महाकाल से यही कामना की कि अब ऐसा लॉकडाउन शहर में कभी न लगे। जो बीत गया वह तो नहीं लौट सकता, लेकिन आने वाले कल को सब मिलकर स्वस्थ, स्वच्छ और मस्त बनाएंगे। मोबाइल दुकान खुली  नईसड़क स्थित मोबाइल दुकान खुलने के साथ ही ग्राहक भी सुबह से मोबाइल खरीदने और सुधरवाने पहुंचे। अब मिलेगी गर्मी से निजात…  दो माह भीषण गर्मी में बिते। लॉकडाउन में छूट के बाद कूलर की दुकानें खुली। ग्राहकों ने कहा- अब गर्मी से निजात मिल सकेगी। पहले सफाई…  दो माह से दुकान के दरवाजे नहीं खुले इस कारण धूल जम गई थी। दुकान खोलकर दो घंटे तक सफाई करना पड़ी। ठेले वालों को रोजगार…  लॉकडाउन में मिली छूट के बाद बाजार खुले तो ठेले वालों और हम्मालों को भी रोजगार मिल गया, जिससे उनमें खुशी थी। पहले पेट्रोल जरूरी…  लॉकडाउन में वाहन घर से नहीं निकले। इस कारण पहले पेट्रोल डलाकर बाजार की ओर रूख करना ही जरूरी समझा। कृषि उपज मंडी में रौनक…  सोमवार से चिमनगंज स्थित कृषि उपज मंडी में भी गेहूं की नीलामी शुरू हो गई। यहां आए किसानों की जांच भी हो रही थी।


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image
वेतन वृद्धि को एरियर्स सहित जून माह के वेतन के साथ दी जाए
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image