घोडाडोंगरी संघर्ष समिति ने कचरा वाहन शुरू करने की रखी मांग जनपद पंचायत सीईओ को सौपा ज्ञापन,


 सीईओ ने 2 दिन शुरू करने का दिया आश्वसान



घोड़ाडोंगरी। नगर में कचरा वाहन शुरू करने की मांग को लेकर घोड़ाडोंगरी संघर्ष समिति ने जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी के सीईओ को ज्ञापन सौपा। घोड़ाडोंगरी संघर्ष समिति की मांग पर सीईओ दानिश अहमद खान ने 2 दिन में कचरा वाहन शुरू करने का आश्वासन दिया। समिति के अध्यक्ष जतिन अरोरा ने बताया कि घोडाडोंगरी ग्राम पंचायत क्षेत्र में गली मोहल्लों में कचरा एकत्रित हो रहा है। जिससे की बीमारी फैलने का खतरा बना हुआ है। पूर्व में कोरोना के चलते नगर में कचरा वाहन शुरू किया गया था जो कि अब बंद कर दिया गया है। नगर की जनता के पास विकल्प न होने के कारण जगह जगह पर कचरा इकट्टा हो रहा है। जिस कारण नगर में गन्दगी फैल रही है जिससे बीमारी बढ़ने की संभावना बढ़ गई है। समिति के सचिव विकास सोनी कोषाध्यक्ष आभास मिश्रा ने बताया कि नगर में घर घर कचरा एकत्रित करने के लिए नगर में कचरा वाहन शुरू किया जाना चाहिए। जिससे कि नगर में स्वच्छ एवं स्वस्थ वातावरण बन सके।समिति के उपाध्यक्ष राकेश अरोरा एवं जतिन आहूजा ने बताया कि विकल्प न होने के कारण आज यह समस्या उत्पन्न हुई है कचरा वाहन शुरू होने से जनता को काफी सहूलियत होगी।।ज्ञापन सौपते समय समिति के अध्यक्ष जतिन अरोरा, सचिव विकास सोनी,महामंत्री विनोद पातरिया,कोषाध्यक्ष आभाष मिश्रा,उपाध्यक्ष राकेश अरोरा, जतिन आहूजा, सुरेंद्र चौहान, दीपक धोटे,सहसचिव नवनीत मालवीय ,आनंद अग्रवाल ,विशाल घोडकी, नरेंद्र चोकसे , राहुल देशमुख, लक्ष्मी नारायण इवने, विनय मंडल ,जतिन प्रजापति , लक्ष्मण प्रजापति ,जीतेश विश्वकर्मा,मुकेश सराठे,आकाश पुरोहित आदि सदस्यगण उपस्थित थे।


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मोहम्मद शमी ने कहा, निजी और प्रोफेशनल मसलों की वजह से 'तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा'
Image
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image
मामला लगभग 45 लाख की ऋण राशि का है प्राथमिक कृषि सेवा सहकारी समिति मर्यादित चोपना के लापरवाही का नतीजा भुगत रहे हैं गरीब किसान