खुशहाल वो होते हैं,* *जिनके पास जो होता है,* *बस उसका सबसे अच्छे से इस्तेमाल करते हैं,* *एन्जॉय करते हैं और भरपूर जीवन जीते हैं*.

(*by Rakesh shoundik - Rachi/ Jharkhand)


*एक पुराना ग्रुप स्कूल छोड़ने के बहुत दिनों बाद मिला।* *वे सभी अच्छे कैरियर के साथ खूब पैसे कमा रहे थे।* *वे अपने सबसे फेवरेट प्रोफेसर के घर जाकर मिले...* *प्रोफेसर साहब उनके काम के बारे में पूछने लगे।* *धीरे-धीरे बात लाइफ में बढ़ते " तनाव"और काम के "दबाव" पर आ गई ।* *इस मुद्दे पर सभी एक मत थे कि, भले ही वे अब आर्थिक रूप से बहुत मजबूत हों,*



*पर उनकी जिंदगी में अब वो मजा नहीं रह गया, जो पहले हुआ करता था।* *प्रोफेसर साहब बड़े ध्यान से उनकी बातें सुन रहे थे...........* *फिर वे अचानक ही उठे और थोड़ी देर बाद किचन से लौटे और बोले :-* *"डीयर स्टूडेंट्स, मैं आपके लिए गरमा-गरम कॉफ़ी बना कर लाया हूंँ,* *लेकिन प्लीज आप सब किचन में जाकर अपने-अपने लिए कप्स लेते आइए....* *लड़के तेजी से रसोई में गए....* *वहांँ कई तरह के कप रखे हुए थे,* *सभी अपने लिए अच्छा से अच्छा कप उठाने में लग गए।* *किसी ने क्रिस्टल का शानदार कप उठाया तो किसी ने पोर्सिलेन का कप पसंद किया.....* *तो किसी ने शीशे का कप उठाया।* *सभी के हाथों में कॉफी आ गयी तो प्रोफ़ेसर साहब बोले:-* *अगर आपने ध्यान दिया हो तो, जो कप दिखने में अच्छे और मँहगे थे,* *आपने उन्हें ही चुना और साधारण दिखने वाले कप्स की तरफ ध्यान नहीं दिया....* *जहांँ एक तरफ अपने लिए सबसे अच्छे की चाह रखना ।* *एक आम बात है.....* *वहीं दूसरी तरफ ये हमारी जिंदगी में "समस्याएंँ"और "तनाव" लेकर आता है।* *दोस्तों, ये तो पक्का है कि कप,* *कॉफी की क्वालिटी में कोई बदलाव नहीं लाता....* *ये तो बस एक जरिया साधन है जिसके माध्यम से आप कॉफी पीते हैं....* *असल में जो आपको चाहिए था.....* *वो बस "कॉफ़ी" थी,* *"कप"नहीं....* *पर फिर भी आप सब सबसे अच्छे कप के पीछे ही गए .......* *और अपना लेने के बाद दूसरों के कप निहारने लगे। ।* *अब इस बात को ध्यान से समझिए...* *"ये " जिंदगी" कॉफ़ी की तरह है.....* *हमारी नौकरी, पैसा, पोजीशन, कप की तरह हैं।* *ये बस जिंदगी जीने के साधन मात्र हैं,* *खुद जिंदगी नहीं !* *और हमारे पास कौन सा कप है.....?* *ये ना हमारी जिंदगी को डिफाइन करता है* *और ना ही उसे बदलता है।* *इसीलिए "कॉफी" की चिंता करना चाहिए* *"कप" की नहीं ।* *दुनिया के सबसे खुशहाल* *लोग वे लोग नहीं होते ,* *जिनके पास सब कुछ* *सबसे बढ़िया होता है.....* *खुशहाल वो होते हैं,* *जिनके पास जो होता है,* *बस उसका सबसे अच्छे से इस्तेमाल करते हैं,* *एन्जॉय करते हैं और भरपूर जीवन जीते हैं*....


Popular posts
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ता ग्राम पंचायत देशावाडी
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image