शिवराज जी किसान ऋणमाफी पर बहस के लिए किसी भी मंच पर आएं कांग्रेस तैयार है- जीतू पटवारी

किसानों पर गोलियां चलाने वाली सरकार इस्तीफा दे


मिस्टर विभीषण अतिथि विद्वानों के लिए कब सड़क पर उतर रहे है



भोपाल - मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किसान कर्ममाफी पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से पूछे जा रहे सवालों को लेकर मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया प्रभारी और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सर्वजनिक मंच पर आकर कृषि ऋणमाफी योजना को लेकर चर्चा करने की चुनौती दी है। जीतू पटवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री भ्रम फैलाना बंद करेंकांग्रेस की कमलनाथ सरकार किसानों का कृषि ऋण माफ करके उनकी मदद करना चाहती थी, उनको आत्मसम्मान से जीना सिखाना चाहती थी। लेकिन आपकी सरकार इसको लेकर भ्रम फैलाने का काम कर रही है। आपके नेता किसान ऋणमाफी की बात करते है, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर मुकदमा दर्ज करवाने की बात कहते है,मैं चुनौती देता हूँ कि आप मुकदमा दर्ज करवाओ। शिवराज जी आपकी सरकार किसानों का मजाक उड़ा रही है। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने किसान कृषि ऋणमाफी में पहले और दूसरे चरण में 25 लाख किसानों के ऋण माफ किए तीसरे चरण में 7 लाख किसानों के ऋण माफ किए है और कर रही थी।


आपकी सरकार किसानों के ऋण माफ कर किसानों के हितों की रक्षा करें नहीं तो आप इस्तीफा दोजीतू पटवारी ने शिवराज सरकार के मंत्री गोपाल भार्गव को किसानों की व्यथा समझने के लिये धन्यवाद दिया उन्होंने सीधे तौर पर शिवराज सरकार पर आरोप लगाया कि किसानों पर गोलियां चलवाने वाले किसानों के हितों को छोड़ शिवराज जी पिछले चार माह से बस अपनी कुर्सी बचाने में लगे है,कुर्सी बचाने के आलावा आपने कुछ नहीं कियाजीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से सवाल पूछा कि आपने पिछली सरकार में 21 हजार घोषणाएं की थीं वह कब पूरी हो रही हैंजीतू पटवारी ने कहा कि आपकी सरकार ने किसानों के बच्चों पर मुकदमें लगवाए और किसानों पर गोलियाँ चलवाई है आप कैसे उनके ऋण माफ करोगें और आप पूर्व मुख्यमंत्री से सवाल पूछते है हिम्मत है तो किसी भी मंच पर कांग्रेस तर्क संगत चर्चा करने को तैयार कांग्रेस सरकार के पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कांग्रेस से बगावत कर बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधते हुए कहा कि मिस्टर विभीषण अब कहां है जो अतिथि विद्वानों और अतिथि शिक्षकों के लिए सड़क पर उतरने की बात करते थे। मिस्टर विभीषण आप कहते थे कि किसान ऋण माफ नहीं होगा तो मैं सड़क पर आऊंगा आप अब कब सड़क पर आओगे। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने अतिथि विद्वानों और अतिथि शिक्षकों के लिए न्याय संगत व्यवस्था बना कर दी थी इस विभाग का मंत्री मैं था मैंने चॉइस फीलिंग और नए पद सृजन किए थे केवल आमंत्रण पत्र देना रह गए थे।


जिसे चार महिने से ये सरकार नहीं दे पायी है। यह उनके साथ अन्याय है। जीतू पटवारी ने कहा कि मैं माँग करता हूँ कि शिवराज सरकार पिछले चार माह से लॉक डाउन के दौरान का अतिथि विद्वानों और अतिथि शिक्षकों को उनका पूरा वेतन देउन्होनें कहा कि मिस्टर विभीषण सिर्फ मलाई खाना चाहते है जो कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में संभव नहीं थी। यहाँ उनकी दाल नहीं गली इसलिए उन्होनें सरकार गिराई। अब पिछले चार माह से प्रदेश कानून व्यवस्था,आत्महत्या,बेरोजगारी, किसान कर्जमाफी और आर्थिक परेशानियों से जूझ रहा है। लेकिन शिवराज जी को अपनी कुर्सी की चिंता है जिसे वह बचाने में लगे हैइनके खाने के दांत और दिखाने के और है। विधानसभा के मानसून सत्र में सरकार चलाने के लिए बजट आ रहा है लेकिन उनके पास कोई वित्तमंत्री नहीं है। यह आउटसोर्स की सरकार कब तक चलेगी। जीतू पटवारी ने कहा शिवराज जी किसान ऋणमाफी करो, विभागों का बंटवारा करो अन्यथा इस्तीफा दो।अतिथि विद्वानों के लिए नियमितीकरण और उनका आमंत्रण पत्र दो अन्यथा इस्तीफा दो,कानून व्यवस्था सही करो अन्यथा इस्तीफा दो,अधिकारी राज पर लगाम लगाओ अन्यथा इस्तीफा दोउन्होनें कहा कि कमलनाथ आ रहे है, शिवराज जा रहे है


Popular posts
घुटने टेकना' पहले सजा थी, अब 'घुटने टेके' तो सजा मिल गयी
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
18 दिन के महाभारत युद्ध ने* *द्रौपदी की उम्र को* *80 वर्ष जैसा कर दिया था...*
Image
कुजू कोयला मंडी में रामगढ़ पुलिस का छापा कैफ संचालक समत दो हिरासत में
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image