श्री कमलनाथ-श्री दिग्विजयसिंह के खिलाफ अपनी वैचारिक व शाब्दिक दरिद्रता सार्वजनिक करने पर मंत्री श्री अरविंद भदौरिया का आभार*


 *ग्वालियर-प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी (ग्वालियर- चम्बल संभाग) के.के.मिश्रा ने शनिवार को अपने गृह जिले में सम्पन्न एक समारोह में प्रदेश के सहकारिता मंत्री श्री अरविंद भदौरिया द्वारा पूर्व मुख्यमंत्रीद्वय सर्वश्री कमलनाथ व दिग्विजयसिंह, पूर्व मंत्री श्री जीतू पटवारी के ख़िलाफ़ प्रयोग में लाई गई अभद्र-अमर्यादित भाषा को उनके संस्कारों,वैचारिक व शाब्दिक दरिद्रता का प्रतीक बताया है।


मिश्रा ने कहा कि श्री भदौरिया को जो राजनैतिक-पारिवारिक विरासत उन्हें प्राप्त हुई है,उसी की उन्होंने सार्वजनिक अभिव्यक्ति की है,कांग्रेस इसके लिए उनका आभार व्यक्त करती है।* *उन्होंने नए नवेले मंत्री पद से अभिभूत श्री भदौरिया को राजनैतिक मान्य परम्पराओं व मर्यादाओं का स्मरण दिलाते हुए कहा कि देश-प्रदेश की राजनैतिक में एक लंबा राजनैतिक जीवन व्यतीत कर चुके नाथ-सिंह उनके पितातुल्य हैं,उन्होंने आपके जैसे कई राजनैतिक कार्यकर्ताओं को ऊंचाइयों से नवाज़ा है,उनके प्रति आपने जिन अमर्यादित शब्दों का प्रयोग किया है उससे प्रदेश का राजनैतिक वातावरण न केवल दूषित हुआ है,वरन एक गंदी राजनीति की भी शुरुआत हो चुकी है! सरकारें और पद आते जाते रहते हैं किंतु आपने मंत्री पद की गरिमा को भूल अपने संस्कारों को सार्वजनिक कर दिया है,इससे निश्चित तौर पर आप जिस अंचल व प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, उसमें भाषाई मर्यादाओं में रहकर विपक्ष पर कैसा प्रहार होना चाहिए,के प्रणेता स्व.अटलबिहारी बाजपेयी व स्व.सुंदरलाल पटवा जैसी दिवंगत आत्माएं जरूर आहत हो रही होंगी?* *सादर प्रकाशनार्थ* *के.के.मिश्रा* *मीडिया प्रभारी* *(ग्वालियर-चम्बल संभाग)*


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मोहम्मद शमी ने कहा, निजी और प्रोफेशनल मसलों की वजह से 'तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा'
Image
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image
मामला लगभग 45 लाख की ऋण राशि का है प्राथमिक कृषि सेवा सहकारी समिति मर्यादित चोपना के लापरवाही का नतीजा भुगत रहे हैं गरीब किसान