आज की कटु अनुभूति - हृदय-विदारक ये घटनाएं "हाथरस गैंगरेप" मेरे नारी-मन को झकझोर के रख देतीं हैं,"निर्भया" जैसे अनगिनत घ्रणित कृत्य देश के गौरव को,, भारत के पौरुष को शर्मशार कर देते हैं - आलेख श्रीमती श्रद्धा गुप्ता


 हा! हा!! ये विडंबना हायरे!


ये गहरी वेदना क्यों मर गयी है


चेतना क्यों शून्य है


निश्चेतना कुछ पशु रूपी पुरुष,


जो पशुओं से भी बद्तर,


देते हैं गाली मां को, उस कोख को शर्मिंदा कर।


इससे घ्रणित कोई कृत्य न ये कितनी नीच हरकत?


इन नपुंसक पुरुषों पर, क्यों मौन साधे हैं सब?


फांसी की सज़ा भी,


इस गुनाह से है कमतर


माफी के काबिल ऐसे,


अपराध नही होते!!


ज्वाला धधक रही है,


रग-रग में जल रही है!


हा! हा! रे ये विवशता,


भारत का खोता पौरुष!!


जितना भी लिखूं कम है..


बस आंख मेरी नम है...


उस पीड़िता का दर्दो-ग़म


"सिद्धि" में जलते पल-पल....


 श्रद्धा "सिद्धि"


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
माँ कर्मा देवी जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं- दिनेश साहू प्रवक्ता मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
माता शबरी का चरित्र अनुकरणीय- मंत्री श्री जयवर्धन सिंह गौरव की बात - मंत्री श्री मरकाम, ब्यावरा में माता शबरी जन्म उत्सव में सम्मिलित हुए मंत्री द्वय