हरिवंश दा की प्रसिद्ध पंक्तियों की प्रेरणा से, एक अपील आप सबसे...- कामिनी परिहार

हरिवंश दा की प्रसिद्ध पंक्तियों की प्रेरणा से, एक अपील आप सबसे...
 भविष्य के लिए एक बार मनन जरूर करें.....


शत्रु ये अदृश्य है
विनाश इसका लक्ष्य है
कर न भूल, तू जरा भी ना फिसल
मत निकल, मत निकल, मत निकल


हिला रखा है विश्व को
रुला रखा है विश्व को
फूंक कर बढ़ा कदम, जरा संभल
मत निकल, मत निकल, मत निकल


उठा जो एक गलत कदम
कितनों का घुटेगा दम
तेरी जरा सी भूल से, देश जाएगा दहल
मत निकल, मत निकल, मत निकल


संतुलित व्यवहार कर
बन्द तू किवाड़ कर
घर में बैठ, इतना भी तू ना मचल
मत निकल, मत निकल, मत निकल



अनुरोध कि जन चेतना हेतु जब तक यह दावानल थम न जाए, पंक्तियों को अग्रसारित करें।


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
सम्पूर्ण भारतवासियों को दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से रक्षा बंधन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं - दिनेश साहू प्रधान संपादक
Image
सिरोंज विधानसभा के पूर्व विधायक गोवर्धन उपाध्याय का लम्बी बीमारी से इलाज के दौरान निधन पूर्व विधायक प्रतिनिधि एवं दैनिक रोजगार के पल की वरिष्ठ सम्पादक श्रीमती परवीन खान ने दी जानकारी दैनिक रोजगार के पल परिवार अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करता है
Image
अग्रवाल समाज की भामाशाही परंपरा
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही