जब भी कोरोना का सताये डर। न किसी से मिलो रहो घर पर।श्रद्धा गुप्ता


जब भी कोरोना का सताये डर। न किसी से मिलो रहो घर पर।i


जब भी ये दिल उदास होता हैकोरोना आस पास होता है।i


न किसी से मिलो। रहो घर पर ii


नाक से आये जब तुम्हें छींकेंi सांसे कुछ धीमी धीमी चलती हो।i


हॉथ-पैरों में हो तुम्हें जकरन। सर्दी-खाँसी के जैसे हो लक्षणii


जाके डॉक्टर को फिर दिखाओ तुमi कोरोना तुमको भी हो सकता हैii


लोगों से दुरियां बना के चलो i खुद की दुनिया में तुम हो जाओ मगन ii


तुमको जो वक्त मिला प्यारा सा i खोज डालो कोई पुरानी लगन ii


घर से निकलो न तुम मेरे यारों। कोरोना जान भी ले सकता हैii


पुरी दुनिया पे है कोरोना कहर। तुमको बचना है तो रहो घर पर।।


देशभक्ति तुम्हें निभानी अगर। जो जहां है वहीं वो जाये ठहर ii


हमने मिलकर मुहिम चलाई जो i देश कोरोना से बच सकता है।i


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
छिंदवाड़ा शहर में  एक प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र भी है