जिले में स्व-सहायता समूहों की महिलाएं कॉटन के मास्क बनाकर कर रही है वितरित मुख्यमंत्री ने महिलाओं से किया संवाद, कोरोना संकट में स्व-सहायता समूहों की भूमिका की सराहना की

रायसेन / प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से स्व-सहायता समूहों की महिलाओं से संवाद किया। वीसी के माध्यम से सीएम से संवाद कार्यक्रम में शामिल हईं रायसेन जिले के स्व-सहायता समूहों की महिलाओं में उत्साह का संचार हुआ। कार्यक्रम में शामिल हुई औबेदुल्लागंज विकासखण्ड की श्रीमती ललिता नागर तथा सुनीता नंदवंशी, सिलवानी विकासखण्ड की श्रीमती गीताबाई, बेगमगंज विकासखण्ड की श्रीमती सीता शर्मा एवं गैरतगंज विकासखण्ड की कमला विश्वकर्मा ने कहा कि नोवेल कोरोना वायरस संक्रमण की इस लड़ाई में महिला स्व-सहायता समूह की महिलाएं दिन रात मेहनत कर कॉटन के मास्क बनाकर वितरित कर रही हैं। इसके साथ ही महिलाओं द्वारा सेनेटाईजर का भी वितरण किया जा रहा है। कॉटन के इन मास्क को साबुन से धोकर पुन: उपयोग में लाया जा सकता है। महिलाओं से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिला सशक्तिकरण का सबसे अच्छा माध्यम स्व-सहायता समूह हैं। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रदेश के महिला स्व-सहायता समूहों ने मास्क, पीपीई किट, हैण्ड ग्लब्स, सेनेटाईजर तैयार कर कोरोना से लड़ने में मदद की है। इन सामग्रियों का निर्माण कर महिला स्व-सहायता समूहों की महिलाएं आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर भी हो रही हैं। कलेक्ट्रेट कार्यालय स्थित एनआईसी के वीसी कक्ष में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधकिरी श्री अवि प्रसाद, एनआरएलएम के जिला परियोजना प्रबंधक श्री एम. राजा, ब्लॉक प्रबंधक जितेन्द्र चतुर्वेदी तथा समूह की महिलाएं उपस्थित थीं।


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मोहम्मद शमी ने कहा, निजी और प्रोफेशनल मसलों की वजह से 'तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा'
Image
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image
मामला लगभग 45 लाख की ऋण राशि का है प्राथमिक कृषि सेवा सहकारी समिति मर्यादित चोपना के लापरवाही का नतीजा भुगत रहे हैं गरीब किसान