राज्य सरकार के निर्णय के बाद सात बसों और दो पिकअप वाहन में लाये गए जिले के मजदूर


उमरिया 28 अप्रैल |जिला मुख्यालय में सोमवार मंगलवार की दरमियानी देत रात में प्रदेश के भोपालएमंडीदीपएरायसेनएविदिशाएबीना एवं सागर जिले से सात बसों एवं दो पिकअप वाहन में सवार तकरीबन तीन सौ मजदूरों को वापस अपने गृह जिला उमरिया लाया गया है जहां स्थानीय डाइट भवन में मजदूरों को रोककर उनकी स्कीनिंग कराई गई है जिसमे प्राथमिक स्तर पर किसी भी मजदूर में कोरोना संबंधी कोई लक्षण नही मिला है जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ने सभी मजदूरों को 14 दिनों तक होम क्वारंटाईन रहने के निर्देश दिए हैं। ये सभी मजदूर जिले के ग्रामीण इलाकों से हैं इंदवारएअमरपुरए अखडार सहित दर्जनों गांवों के मजदूर जो काम रोजगार की तलाश में बाहर गए थे और कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी देशव्यापी लाकडाउन में फंसे हुए थे।जो श्रमिक अन्य जिलों से वापस आये है एसडीएम बांधवगढ की उपस्थिति में रात्रि 12 बजे डाईट उमरिया में चिकित्सक दल द्वारा थर्मल स्क्रीनिंग की गई। इसके पश्चात उनके भोजन एवं ठहरने की व्यवस्था डाईट मं की गई। थर्मल स्क्रीनिंग में जो श्रमिक संक्रमण मुक्त पाए गए उन्हें विषेष वाहनों द्वारा उनके गृह ग्राम छोडने की व्यवस्था की गई।


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
रायसेन में डॉ राधाकृष्णन हायर सेकंडरी स्कूल के पास मछली और चिकन के दुकान से होती है गंदगी नगर पालिका प्रशासन को सूचना देने के बाद भी नहीं हुई कोई कार्यवाही
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं