कबाड़ से जुगाड़ करके उमरिया में पैर से चलित हाथ धोने की बनाई गई मशीन नगर के प्रमुख स्थलों गांधी चौराहा पुराना बस स्टैंभ तथा नगरपालिका भवन में लगायी गयी मशीन

उमरिया 8 मई - विश्व व्यापी कोरोना महामारी से बचाव हेतु जहाँ जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है वही संस्थागत रूप से भी प्रयास किये जा रहे हैंए बचाव के उपायों में साबुन एवं पानी का उपयोग कर बार- बार हाथ साफ करना भी शामिल हैए नगरपालिका उमरिया ने नगरवासियों एवं अपने कर्मचारियों की सुरक्षा हेतु सफाई के आयाम को पूरा करने के लिए उनको स्वच्छता की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए नगरपालिका में उपयोग के बाद बचे कबाड़ का उपयोग कर बहुत कम लागत से सेमी आटोमेटिक मशीन बनाई गयी हैमशीन में पाइपए वाश बेसिनए पानी टैंक का उपयोग का किया गया है। जिसमें हैण्भपम्प में उपयोग के पश्चात् निकले पाइपए फिल्टर प्लांट में उपयोग किये जाने वाले केमिकल के खाली ड्रम का उपयोग शामिल है। मुख्य नगरपालिका अधिकारी एस के गभपाले ने बताया कि स्वच्छता निरीक्षक नारायण दुबेए उपयंत्री देवल सिंहए राहुल सिह ए काजू मिस्त्री के सहयोग से यह मशीन बनाई गई हैए मशीन में एक ओर सेनेटाइजर के बोतल रखने की तथा दूसरी ओर पानी की पाइप से हाथ धोने के लिए पानी की सप्लाई व्यवस्था और उसके नीचे वाश बेसिन लगाया गया हैए पानी के लिए ड्रम रखा गया हैए मशीन का संचालन पैर के मामूली स्पर्श से चलने वाले पैभल से होता है।


पैर से पैमल स्पर्श करने पर साबुन का घोल तथा दूसरे पैमल को पैर से टच करने पर पानी निकलता हैए पानी की व्यवस्था के लिए 30 लीटर क्षमता वाला ड्रम लगा हैए पानी की पूर्ति सुबह नगरपालिका टैक् से की जाती है। मुख्य नगरपालिका अधिकारी उमरिया एस के गभपाले ने बताया कि प्रथम चरण में नगरपालिका कार्यालयए गांधी चौक तथा पुराने बस स्टैंभ के पास यह मशीन लगाई गई हैए इन स्थानों में नगर आने वाले लोग हाथ धुलाई कर सकते हैंए इनके उपयोग की जानकारीए सुरक्षा आदि का दायित्व स्थानीय स्वयंसेवक तथा व्यापारी करते हैंगांधी चौक के व्यापारी सुनील अग्रवाल और तारचंद्र राजपूत ने जहां इस मषीन को अति उपयोगी बताया वहीं नागरिक अनिल खटिक ए गोपाल अग्रवाल और सुधीर गुप्ता ने इसे जीवन रक्षक उपाय बतायाउनका कहना है कि बभ संख्या मे नागरिक बाजार में खरीदी हेतु आते है इसके पष्चात हाथ की धुलाई से उन्हे सुरक्षा मिल रही है। नगर पालिका द्वारा इस सुविधा को उपलब्ध कराने से व्यापारियो तथा ग्राहकों को हाथ धोने संबंधी समस्या से निजात मिला है। कम लागत एवं अनुपयोगी सामग्री से बनायी गयी मशीन से मिल रही सुविधा से नगरवासी प्रसन्न हैए अब यह मशीन संयुक्त कलेक्टर परिसर तथा बस स्टैंभ में भी लगाई जायेगी।


Popular posts
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
पाढर अस्पताल में अब होगा आयुष्मान मरीजों का उपचार, पाढ़र अस्पताल का हुआ अनुबंध :- आशीष पेंढारकर 
Image
लेखन सामग्री क्रय करने हेतु पंजीकृत सप्लायर्स से निविदाएं आमंत्रित
पाकिस्तानी पायलटों को अचानक बैन करने लगे कई देश
Image