मनरेगा की मजदूरी 300 प्रतिदिन एवं कार्य दिवस 200 दिन किया जाए - कमल मर्सकोले (विरेंद्र झा)


(विरेंद्र झा)


पाथाखेड़ा घोड़ाडोंगरी जनपद पंचायत ग्राम पंचायत पांढरा के भूतपूर्व सरपंच एवं भूतपूर्व मंडल अध्यक्ष किसान मोर्चा (भाजपा) श्री कमल मर्सकोले ने एक भेंटवार्ता में बताया कि आज जो वैश्विक महामारी कोरोना में प्रवासी मजदूरों की दर्दनाक स्थिति है एवं साथ ही प्रवासी मजदूरों स्थिति को लेकर शासन और प्रशासन चिंतनीय है उसके पीछे मुख्य कारण मजदूरों का अपने ही गांव से पलायन है । उन्होंने कहा कि मजदूर अपने गांव से दूरदराज रोजगार के लिए इसलिए जाता गांव से दूरदराज रोजगार के लिए इसलिए जाता है कि उनको अपने ही गांव में रोजगार नहीं मिलता है।


श्री कमल मर्सकोले ने केंद्र सरकार से मांग की है कि इस समस्या के हल के लिए मनरेगा की मजदरी दिवस 100 के स्थान पर 200 दिन किया जाए एवं मनरेगा की मजदूरी महंगाई को देखते हुए 300 प्रतिदिन कम से कम किया जाए श्री कमल मर्सकोले का कहना है कि सरकार को चाहिए कि मनरेगा के तहत गांव की अधोसंरचना विकास के साथ ही शासकीय कृषि आधारित उद्योग की यूनिट स्थापित कर उसमें मनरेगा के तहत ग्रामीणों को रोजगार दी जाए


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
जांच के इंतजार में आर ई एस तालाब सलैया
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*