श्री गणेशाय नमः आज का नाम है  (विश्वतो 

श्री गणेशाय नमः आज का नाम है
 (विश्वतो
मुखी )अर्थात जिनका मुख्य समस्त दिशाओं में विद्यमान है या जो समस्त दिशाओं में स्वयं विद्यमान है एक समय की बात है सती रूप में माई भगवान शिव  शिव से अपने पिता प्रजापति दक्ष के घर जाने की अनुमति मांगी परंतु शिवजी ने उन्हें मना कर दिया वे उनका मार्ग वाधित करने लगे माई ने सती रूप में सभी बाधित मार्गो से अपने आप को स्थान अंतर कर लिया वह दसों दिशाओं में भी प्रकट होती रही उनका यह रूप देखकर भगवान शिव डर गए वा उन्होंने मार्ग बाधित करना छोड़ दिया उसके पश्चात देवी अपने पिता के घर चली गई और आगे का इतिहास तो हम सबको विदित ही है कि किस तरह दक्ष की यज्ञशाला में उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दे दी और भगवान शिव ने बाद में दक्ष का वध कर दिया जय माई की


Popular posts
अतिथि शिक्षकों को अप्रैल तक का मानदेय होगा भुगतान 
Image
हर साल 1000 करोड़ का घोटाला करता है राशन माफिया
Image
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
*ये दुनिया भी कितनी निराली है!* *जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं …जिसके पास अच्छा बिस्तर है …….उसकी आँखों में नींद नहीं …* *जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं* …. *और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image