श्री गणेशाय नमः आज का नाम है  (विश्वतो 

श्री गणेशाय नमः आज का नाम है
 (विश्वतो
मुखी )अर्थात जिनका मुख्य समस्त दिशाओं में विद्यमान है या जो समस्त दिशाओं में स्वयं विद्यमान है एक समय की बात है सती रूप में माई भगवान शिव  शिव से अपने पिता प्रजापति दक्ष के घर जाने की अनुमति मांगी परंतु शिवजी ने उन्हें मना कर दिया वे उनका मार्ग वाधित करने लगे माई ने सती रूप में सभी बाधित मार्गो से अपने आप को स्थान अंतर कर लिया वह दसों दिशाओं में भी प्रकट होती रही उनका यह रूप देखकर भगवान शिव डर गए वा उन्होंने मार्ग बाधित करना छोड़ दिया उसके पश्चात देवी अपने पिता के घर चली गई और आगे का इतिहास तो हम सबको विदित ही है कि किस तरह दक्ष की यज्ञशाला में उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दे दी और भगवान शिव ने बाद में दक्ष का वध कर दिया जय माई की


Popular posts
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ता ग्राम पंचायत देशावाडी
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image