कप्तान विराट कोहली का कहना है कि कोरोना संकट के इस दौर में जब दोबारा क्रिकेट शुरू होगा तो वो पहले जैसा खेल रहेगा या नहीं.


भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली का कहना है कि कोरोना संकट के इस दौर में जब दोबारा क्रिकेट शुरू होगा तो वो पहले जैसा खेल रहेगा या नहीं. विराट कोहली ने सोशल मीडिया वेबसाइट इंस्टाग्राम पर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के साथ एक लाइव बातचीत के दौरान ये बात कही. कोहली ने कहा, "मुझे नहीं पता आगे क्या होने वाला है, ये सोचकर भी अजीब लगता है कि खेलते समय कभी आप अपने आप चाहेंगे कि साथी खिलाड़ी के साथ मिलकर ताली बचाएँ, पर आप वो नहीं कर सकते, आपको हाथ जोड़ना होगा और पीछे हट जाना होगा."


आईसीसी के दिशा-निर्देश अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद, आईसीसी ने 22 मई को क्रिकेट के दोबारा शुरू होने के बारे में दिशा-निर्देश जारी किए थे. आईसीसी ने कहा है, "एक चीफ़ मेडिकल ऑफ़िसर या बायोसेफ्टी ऑफ़िसर नियुक्त करने के बारे में सोचना चाहिए जो सरकारी नियमों का पालन करवाने और जैव-सुरक्षा की योजना को लागू करवाने के लिए जिम्मेदार होगा." दिशानिर्देश में साथ ही मैचों से 14 दिन पहले खिलाड़ियों को अलग ट्रेनिंग कैंपों में रखने, उनका तापमान चेक करने, कोविड-19 की जाँच करने, खिलाड़ियों के सामानों के सैनिटाइज़ेशन और सोशल डिस्टैसिंग का अभ्यास करने की ज़रूरत भी बताई गई. कहा गया कि खेल के मैदानों में खिलाड़ियों और अंपायरों को भी नियमों को मानना होगा जिसका मतलब ये है कि खिलाड़ी अब पहले की भांति अंपायर को टोपी, चश्मा, रूमाल, स्वेटर जैसी चीजें नहीं थमा सकेंगे. अंपायरों को भी गेंदों को छते समय दस्ताने पहनने पड़ सकते हैं. बॉल को सुरक्षित रखने के लिए खिलाड़ियों को उस पर थूक नहीं लगाना होगा, और गेंद को छूने के बाद आँख, नाक, मुँह को नहीं छूना होगा. आईसीसी ने कहा कि यात्रा के लिए चार्टर्ड विमानों और सीटों के बीच सुरक्षित दूरी बनाने पर भी विचार किया जाना चाहिए. मार्च के महीने से ही एक भी अंतरराष्ट्री क्रिकेट मैच नहीं हो सका है. हालाँकि, इंग्लैंड और वेस्टइंडीज़ एक सुरक्षित वातावरण में जुलाई में तीन टेस्ट मैचों की सिरीज़ खेलने की योजना बना रहे हैं.


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*
भ्रष्ट एवं गबन करने वाले सचिव बद्रीलाल भाभर पर एफ आई आर दर्ज को सेवा से निष्कासित करे
Image
ना Sunday बीतने की चिंता,        ना Monday आने का डर - प्रगति वाघेला