नेपाल नक्शा विवाद: नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने भारत के बातचीत के प्रस्ताव को छिपाया. भारत ने नेपाल को दिया था बातचीत का प्रस्ताव


नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने अपने देश की संसद से और पार्टी के दसरे नेताओं से भारत के बातचीत के प्रस्ताव को छिपाया. सूत्रों के हवाले से - जब संशोधन प्रस्ताव सदन के पटल पर रखा गया था उससे पहले ही वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बातचीत का प्रस्ताव दिया गया था. नेपाली प्रधानमंत्री पीएम ओली के इस एकतरफ़ा कदम ने कठिन स्थिति पैदा कर दी है और भविष्य की किसी भी वार्ता के परिणाम को पहले से तय' कर दिया है."


इस नए नक्शे में नेपाल ने अब आधिकारिक रूप से लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को नेपाली क्षेत्र के रूप में दिखलाया है जिसे लेकर भारत और नेपाल के बीच तनाव की स्थिति है. भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को बातचीत से इस मुद्दे को सुलझाने की बात कही थी. जबकि नेपाल के प्रधानमंत्री यह आरोप लगाते रहे हैं कि बातचीत उनकी पहल पर दिल्ली की ओर से कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया गया.


Popular posts
राष्ट्रीय कांग्रेस किसान संगठन में राष्ट्रीय एवं प्रदेश पदाधिकारियों कि नियुक्ति
Image
भ्रष्ट एवं गबन करने वाले सचिव बद्रीलाल भाभर पर एफ आई आर दर्ज को सेवा से निष्कासित करे
Image
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image
ग्राम बादलपुर में धान खरीदी केंद्र खुलवाने के लिये बैतूल हरदा सांसद महोदय श्री दुर्गादास उईके जी से चर्चा करते हुए दैनिक रोजगार के पल के प्रधान संपादक दिनेश साहू
Image
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image