बिक रहा है पानी पवन बिक न जाए


(दुर्गेश शर्मा - लेखक म.प्र. कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता है)


किसी कवि ने क्या खूब लिखा है


बिक रहा है पानी पवन बिक न जाए


बिक गयी है धरती गगन बिक न जाए


चाँद पर भी बिकने लगी है जमीं


डर है की सूरज की तपन बिक न जाए


हर जगह बिकने लगी है स्वार्थ नीति


डर है की कहीं धर्म बिक न जाए


देकर दहेज ख़रीदा गया है अब दुल्हे को


कही उसी के हाथों दुल्हन बिक न जाए


 हर काम की रिश्वत ले रहे अब ये नेता


कही इन्ही के हाथों वतन बिक न जाए


सरे आम बिकने लगे अब तो सांसद और विधायक


डर है की कहीं संसद भवन और विधानसभा बिक न जाए


मरा तो भी आँखें खुली हुई हैं


डरता है मुर्दा कहीं कफ़न बिक न जाए !!!


Popular posts
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
मध्यप्रदेश के मेघनगर (झाबुआ) में मिट्टी से प्रेशर कुकर बन रहे है
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image