लापरवाही और मनमानी ना जाने कितने लोग का जीवन नष्ट करके दम लेगा - गोविंद पटेल

लापरवाही और मनमानी ना जाने कितने लोग का जीवन नष्ट करके दम लेगा । समय था सावधानी और बचाव के लिए तैयारी व संसाधन स्थापित करने का  तब शासक विदेशी मित्र को लेकर नमस्ते ट्रम से उत्साहित थे , जब विदेशी महामारी से बचाव के लिए संघर्ष कर रहे थे तब हमारे शासक मोटा भाई प्रधान सेवक लिट्टी चौंखा खाने मे व्यस्त थे । उसी समय देश की सबसे प्राचीन राजनैतिक पार्टी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी जी ने प्रधानमंत्री जी को पत्र लिखकर और मिडिया के माध्यम से भी आगाह किया था कि समय रहते महामारी से निपटने के लिए व्यापक इंतजाम कर ले हर जरूरी सामान और सीमाऐ चाक-चौबंद कर ले महामारी हमारे मुल्क की और तेजी से आगे बढ़ रही है। खासकर विदेशी उड़ानो रद्द करने के साथ विदेशी मुल्क से आने वाली जहाज पर पाबंदी लगा दे । समय जनवरी 20 20 अब न तो पत्र का जवाब आया  इसी तरह लापरवाही का घटनाक्रम मप्र की राजधानी भोपाल मे देखने को मिला जो पुरे प्रदेश की जनता के साथ देश दुनिया ने भी देखा एक तरफ महामारी के चलते सदन और कोर्ट स्थागित किये जा रहे थे वही मप्र की प्रमुख विपक्ष भारतीय जनता पार्टी और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सरकार गिराने हर सम्भव प्रयास किए जा रहे थे । हर नियम ताक पर रखकर सत्ता की भूख मिटाने को आतुर शिवराज सिंह विधायको की खरीद फरोख्त करके नजरबंद करने के लिए दुसरे राज्यो की सरकारो तक का  पावर पैसा का वैंजा इस्तेमाल किया गया मप्र की जनता के भविष्य और स्वास्थ्य को दाव पर लगा दिया गया और दिल्ली सरकार और पूरी भाजापा मप्र की जनता के द्वारा दिया बहुमत का चीरहरण देखती रही और उसी जनता को कोरोना महामारी मे धकेल दिया गया धन बल सत्ता के लोभी शिवराज सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया इस सब के जिम्मेदार है मप्र की हर आदमी की दुर्गति के जिम्मेदार शिवराज और सिंधिया । जय हो राजा राम की 


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
मोहम्मद शमी ने कहा, निजी और प्रोफेशनल मसलों की वजह से 'तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा'
Image
दैनिक रोजगार के पल परिवार की तरफ से समस्त भारतवासियों को दीपावली पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
Image
मामला लगभग 45 लाख की ऋण राशि का है प्राथमिक कृषि सेवा सहकारी समिति मर्यादित चोपना के लापरवाही का नतीजा भुगत रहे हैं गरीब किसान