मनहरण घनाक्षरी ****************** लाल लाल बाल मेरो गोविन्द गोपाल जैसो - श्रीमती माधुरी सोनी *मधुकुँज* आलीराजपुर

मनहरण घनाक्षरी ****************** लाल लाल बाल मेरो गोविन्द गोपाल जैसो रूप अपलक तित देखूं जौ निहारूँ में काली घटा घुंघराली माथे चूमे जैसे कोई नखराली बदरी की अलकें सिमटी हें l लाल होंठ श्याम तन पीरी सी कछौटी अंग मोरपंख भी ललाट सूंदर सिंगार है । ऐसो लाल पलना में झूले सखी देखो आओ लेकर बलैया जाओ नजर उतार के l प्रेम रस केसो अति वात्सल्य छवि में बसे दीनन की सुध बुध सभी बिसराई में l सूर श्याम अलबेली जगत की माया ऐसी लीला न्यारी विधाता ने माया क्या रचाई है l बाल लीला अति न्यारी जो देखे हो बलिहारी परम् आनन्द सुख जगत रिझायो हे l मधुकुँज शोभा ऐसी छवि को विलोकत ज्यों, मंद मंद मन में ही खूब मुस्काई हे ।। स्वरचित


Popular posts
ग्रामीण आजीविका मिशन मे भ्रष्टाचार की फिर खुली पोल, प्रशिक्षण के नाम पर हुआ घोटाला, एनसीएल सीएसआर मद से मिले 12 लाख डकारे
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
आंसू" जता देते है, "दर्द" कैसा है?* *"बेरूखी" बता देती है, "हमदर्द" कैसा है?*
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
भगवान पार ब्रह्म परमेश्वर,"राम" को छोड़ कर या राम नाम को छोड़ कर किसी अन्य की शरण जाता हैं, वो मानो कि, जड़ को नहीं बल्कि उसकी शाखाओं को,पतो को सींचता हैं, । 
Image