सस्ती लोकप्रियता के लिये पहले विवादास्पद बयान देना और बाद में


पलट जाना, मंत्री उषा ठाकुर की आदत बन चुका है मंत्री उषा ठाकुर अपने आपत्तिजनक बयान के लिये माफी माँगे: नरेंद्र सलूजा


भोपाल/ इंदौर


समन्व मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि प्रदेश की संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर को ऐसा विभाग मिला है ,जिसमें काम करने को ज्यादा कुछ काम नहीं है इसलिए फुर्सत में सस्ती लोकप्रियता के लिये पहले निरंतर उल-जलूल व विवादास्पद बयान देना और बाद में पलट जाना उनकी आदत बन चुका है। सलूजा ने कहा कि आज वो कांग्रेस को देशद्रोही बता रही है व इस चुनाव को देशभक्त व देशद्रोहियों के बीच का चुनाव बता रही है।इसके पूर्व वो आदिवासियों के हितों के लिए काम करने वाले संगठन जयस को भी देशद्रोही संगठन बता चुकी है और बाद में विरोध होने पर पलट चुकी है व माफी मांग चुकी हैइसके पूर्व भी वो नवरात्रि में गरबे को लेकर, बकरीद पर कुर्बानी को लेकर, मैगी खिलाने वाली माँ को आलसी बताने जैसे विवादास्पद बयान देती रहती है।


Olसलूजा ने कहा कि मंत्री उषा ठाकुर का कांग्रेस को लेकर दिया बयान बेहद आपत्तिजनक है, इसके लिए उन्हें माफी मांगना चाहिए।साथ ही उन्हें यह भी बताना चाहिए कि जिस भाजपा को वह देशभक्त बता रही है , आजादी की लड़ाई में उसके कौनकौन से नेता ने भाग लिया? आजादी के संघर्ष में उनकी पार्टी का क्या योगदान था? आरएसएस कार्यालय पर 52 वर्ष तक तिरंगा झंडा क्यों नहीं फहराया गया? किस कार्य से उषा ठाकुर अपनी पार्टी को देशभक्त बता रही है? वहीं कांग्रेस का तो इतिहास गवाह है कि कांग्रेस के कई नेताओं ने आजादी की लड़ाई में भाग लिया, अपनी कुर्बानियां दी है। कांग्रेस देश भक्त पार्टी है, कांग्रेस ने देश की आजादी की लड़ाई लड़ी है, यह किसी से छुपा नहीं है और हमें भाजपा के प्रमाण पत्र की आवश्यकता भी नहीं है।


Popular posts
आज हेहल सरना समिति के कुछ लोगों ने मोहल्ले में सबको चावल दाल सब्जी का वितरण किया
Image
अगर आप दुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुखी रहेंगे और सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे
Image
कान्हावाड़ी में बनेगी अनूठी नक्षत्र वाटिका, पूर्वजों की याद में लगायेंगे पौधे* *सांसद डीडी उइके एवं सामाजिक कार्यकर्ता मोहन नागर ने कान्हावाड़ी पहुँचकर किया स्थल निरीक्षण
Image
एक ऐसी महान सख्सियत की जयंती हैं जिन्हें हम शिक्षा के अग्रदूत नाम से जानते हैं ।वो न केवल शिक्षा शास्त्री, महान समाज सुधारक, स्त्री शिक्षा के प्रणेता होने के साथ साथ एक मानवतावादी बहुजन विचारक थे। - भगवान जावरे
Image
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image