पूर्व मंत्री डाॅ. विजयलक्ष्मी साधो की अध्यक्षता मंे कांगे्रस की  प्रदेष स्तरीय ‘परामर्ष समिति’ का गठन नागरिकों को चिकित्सीय सहायता मुहैया करायेगी


पूर्व मंत्री डाॅ. विजयलक्ष्मी साधो की अध्यक्षता मंे कांगे्रस की 
प्रदेष स्तरीय ‘परामर्ष समिति’ का गठन
नागरिकों को चिकित्सीय सहायता मुहैया करायेगी


मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी के निर्देष पर प्रदेष कांग्रेस द्वारा मध्यप्रदेष मंे कोरोना त्रासदी के दौरान प्रदेष के नागरिकों की चिकित्सीय सहायता हेतु एवं अन्य चिकित्सीय परामर्ष हेतु पूर्व मंत्री एवं विधायक डाॅ. विजयलक्ष्मी साधो की अध्यक्षता में एक प्रदेष स्तरीय ‘परामर्ष समिति’ का गठन किया है। उक्त समिति में सर्वश्री डाॅ. भरत छपरवाल, पूर्व कुलपति देवी अहिल्या विष्वविद्यालय, इंदौर, डाॅ. अषोक मसकोले विधायक मंडला, डाॅ. हीरा अलावा विधायक जिला धार, डाॅ. सुदीप पाठक भोपाल, डाॅ. संजय अहिरकर पूर्व अध्यक्ष जूनियर डाॅक्टर एसोषिऐषन इंदौर, डाॅ. संजीव चांदोरकर नरसिंहपुर, डाॅ. मनीष माथुर खंडवा, डाॅ. गोविंद मुजाल्दा खरगोन, डाॅ. एच.एस. राठौर जावरा, डाॅ. संजय पटेल जबलपुर, डाॅ. साकेत सर्राफ शहडोल और डाॅ. अरविंद दुबे ग्वालियर को समिति का सदस्य बनाया गया है।
उक्त समिति के गठन की जानकारी देते हुए प्रदेष कांगे्रस के महामंत्री कार्यालय प्रषासन प्रभारी श्री राजीव सिंह ने बताया है कि श्री कमलनाथ जी की भावनानुसार कांगे्रस की यह प्रदेष स्तरीय ‘परामर्ष समिति’ प्रदेष में कोरोना संक्रमण से प्रभावित हुए अथवा उसके लक्षण तथा अन्य चिकित्सीय कार्याें मंे नागरिकों की सहायता के लिए गठित की गई है, जो प्रदेष भर में ऐसे सभी मरीजों एवं नागरिकों के लिए सरकार से उचित इलाज मुहैया कराने में अपनी भूमिका का निर्वहन करेगी।  


Popular posts
बैतूल पाढर चौकी के ग्राम उमरवानी में जुआ रेड पर जबरदस्त कार्यवाही की गई
Image
जांच के इंतजार में आर ई एस तालाब सलैया
बीती देर रात सांसद दुर्गादास उईके ने ग्राम पिपरी पहुंचकर हादसे में मृतकों के परिजनों से की मुलाकात ।
Image
कोरोना के एक वर्ष पूरे आज ही के दिन चीन में कोरोना का पहला केस मिला था
Image
सरकारी माफिया / म. प्र. भोज मुक्त विश्वविद्यालय बना आर्थिक गबन और भ्रष्टाचार का अड्डा* **राजभवन सचिवालय के अधिकारियों की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में** *कांग्रेसी मूल पृष्ठ भूमि के कुलपति डॉ जयंत सोनवलकर अब राज्यपाल आर एस एस का संरक्षण बताकर कर रहे है खुलकर भ्रष्टाचार*